Main Menu

इंडिया सीएसआर आउटलुक रिपोर्ट 2018 जारी

इंडिया सीएसआर समिट एंड एग्जिबिशन की शुरुआत नई दिल्ली में सोमवार को हुई जिसमें इंडिया सीएसआर आउटलुक रिपोर्ट 2018 जारी की गई।

इस कार्यक्रम में 1400 से ज्यादा संगठन, 110 से ज्यादा एग्जिबिटर और 3000 से ज्यादा प्रतिनीधियों ने शिरकत की। दो दिवसीय इस सम्मेलन के मौके पर केंद्रीय कौशल, विकास एवं उद्यमिता राज्य मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने कहा जिन कंपनियों ने सरकार के साथ कदम मिलाते हुए मौजूदा दौर में अपने तय किए गए सहकारी सामाजिक जिम्मेदारी (सीएसआर) बजट से चार गुना ज्यादा खर्च किया है, वे तारीफ के काबिल है।

एनजीओबॉक्स के सीईओ भौमिक शाह ने कहा, “कॉन्फ्रेंस वर्कशॉप, मास्टर क्लास, प्रदर्शनी और पुरस्कार के मिश्रित फॉर्मेट के साथ इस इवेंट ने भारत में सर्वश्रेष्ठ व्यापारिक, सरकारी और विकास क्षेत्र में सबसे बड़े मीटिंग प्वाइंट में से एक प्वाइंट के लिए प्लेटफॉर्म तैयार किया है।” इस दो दिवसीय इवेंट की मेजबानी एनजीओबॉक्स, यूनिसेफ, एनएसडीसी और गूडेरा ने की है।

केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री डॉ. सत्यपाल सिंह ने कहा, “धन का बंटवारा भी उसी तरह उचित और स्वस्थ तरीके से होना चाहिए, जिस तरह हम समाज में खुशियां बांटते हैं। केंद्र सरकार के चार साल में किए गए प्रयासों को देखते हुए 2022 तक भारत को गरीबी से मुक्त हो जाना चाहिए। देश के विकास के लिए शिक्षा बहुत जरूरी है।”

एनजीओबॉक्स की ओर से प्रकाशित इंडिया सीएसआर आउटलुक रिपोर्ट (आईसीओआर) के अनुसार रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड, एचडीएफसी बैंक लिमिटेड, विप्रो लिमिटेड, टाटा स्टील, एनटीपीसी, इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन और ओएनजीसी ने 2017-18 में अपने सहकारी सामाजिक जिम्मेदारी (सीएसआर) के निर्धारित बजट से ज्यादा खर्च किया। 2017-18 के वित्त वर्ष में अपने तय सीएसआर बजट से ज्यादा खर्च करने वाली सर्वश्रेष्ठ 10 कंपनियों में रिलायंस इंडस्ट्री एक बार फिर टॉप पर रही।

रिपोर्ट में यह दिखाया गया है कि भारत के लिए कॉरपोरेट इंडिया के सामाजिक जिम्मेदारियों के ग्राफ में 49 फीसदी का उछाल आया है। 2016-17 से कंपनियों की ओर से किए गए वास्तविक सीएसआर खर्च में निर्धारित सीएसआर खर्च से 6 से 8 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। पिछले साल की तुलना में इस साल सीएसआर प्रोजेक्ट में 25 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। महाराष्ट्र, कर्नाटक और गुजरात ने संयुक्त रूप से भारत के कुल सीएसआर फंड का 25 फीसदी से ज्यादा फंड हासिल किया।






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *